Sunday, February 13, 2011

ये चुपके-चुपके ही आ बैठता है बस दिल में -गज़ल

१०n

उसे वहाँ कोई अपना नजर नहीं आता
तभी तो देर तलक वो भी घर नहीं आता

हमारे बीच ये दीवार क्यों है आन खड़ी
उधर मैं जाता नहीं,वो इधर नहीं आता

हमेशा जाती है मिलने नदी समुन्दर से
समुन्दर उससे तो मिलने मगर नहीं आता


 

तुझे है मुझसे मुहब्ब्त मैं मान लूँ कैसे
तेरी नजर में वो मंजर नजर नहीं आता

ये चुपके-चुपके ही आ बैठता है बस दिल में      
कि रंजो-ग़म कभी  देकर खबर नहीं आता

मैं खुद ही उससे मुलाकात को हूँ चल देता
कि मुझसे मिलने कभी ग़म अगर नहीं आता

हुई क्या बात कोई तो बताये ‘श्याम’ हमें
क्यों रात-रात तू घर लौटकर नहीं आता

 

मफ़ाइलुन. फ़इलातुन मफ़ाइलुन फ़ेलुन

मेरा एक और ब्लॉग http://katha-kavita.blogspot.com/

11 comments:

  1. मैं खुद ही उससे मुलाकात को हूँ चल देता
    कि मुझसे मिलने कभी ग़म अगर नहीं आता
    वाह जनाब बहुत खुब धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. उसे वहाँ कोई अपना नजर नहीं आता
    तभी तो देर तलक वो भी घर नहीं आता
    >
    >
    सही है, आज घर के लोग भी अजनबी बनते जा रहे हैं :(

    ReplyDelete
  3. प्रिय श्याम सखा 'श्याम'जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    सच कहूं तो , बह्र पहचान नहीं पाया हूं …
    बहरहाल ख़ूबसूरत जज़बात ख़ूबसूरत कलाम के लिए बधाई !
    पूरी रचना अच्छी लगी -
    ये चुपके-चुपके ही आ बैठता है बस दिल में
    कि रंजो-ग़म कभी देकर खबर नहीं आता

    बहुत ख़ूब !

    प्रेम बिना निस्सार है यह सारा संसार !
    प्रणय दिवस मंगलमय हो ! :)

    बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  4. खूबसूरत रचना,आभार.

    ReplyDelete
  5. हमारे बीच ये दीवार क्यों है आन खड़ी
    उधर मैं जाता नहीं,वो इधर नहीं आता

    हमेशा जाती है मिलने नदी समुन्दर से
    समुन्दर उससे तो मिलने मगर नहीं आता


    बहुत अच्छी गज़ल.

    ReplyDelete
  6. बेहद खूबसूरत भाव लिये हैं सभी अशआर।
    राजेन्‍द्र भाई ने जो सवाल किया है उसका उत्‍तर है 'बह्रे मुजारे मुसम्मन् मक्बूज मख्बून मक्तुअ'

    ReplyDelete
  7. Raghunath Mishra2/16/11, 12:03 AM

    Priya shysam ji,
    achhi,anukarniya,mukammal ghazal ke liye hardik badhai/shubhkamnayen.
    Snehadhin,

    Raghunsth Mishra

    ReplyDelete
  8. वाह..बहुत सुन्दर...

    सभी शेर मनमोहक हैं...

    सुन्दर ग़ज़ल लिखी है आपने...

    ReplyDelete
  9. आप सभी मित्रों का आभार

    ReplyDelete
  10. डा0 साहब
    गजल वाकई अच्‍छी है , आपको बधाई
    विनम्रता से निवेदन करना चाहूंगा कि अब 'तलक' और 'आन' जैसे प्रयोगों से बच सकें तो और बेहतर होगा

    ReplyDelete
  11. डॉ० साहब नमस्कार!
    कई वर्ष पहले आपसे लखनऊ में भेट हुई थी। मैं आजकल लुधियाना में अपने बेटे के पास आया हूँ। आपके ब्लाग पर आ कर वह यादें ताजा हो गईं। लुधियाना में कोई साहित्यकारों की कोई संस्था हो तो बताइए। आप की ताजा गजलें पढ़ कर बड़ी सुखद अनुभूति हुई।
    =============
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी
    सचलभाष- 09336089753
    ==============

    ==============

    ReplyDelete