Friday, June 11, 2010

फ़ुटकर शे‘र-१२- श्याम सखा ‘श्याम‘

जिन्दगी भर जिन्दगी खेल दिखाती है रही
जीतकर भी हारना मुझको सिखाती है रही


फ़ाइलातुन,फ़ाइलातुन,फ़ इ लातुन फ़ेलुन
मेरा एक और ब्लॉग http://katha-kavita.blogspot.com/

10 comments:

  1. सुंदर पोस्ट

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. आईये पढें ... अमृत वाणी।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर! 'है' अगर हटा दिया जाए तो शायद ज्यादा सुन्दर लगे!

    ReplyDelete
  5. क्या बात है! वाह!

    ReplyDelete