Friday, July 1, 2011

ग़म हुआ जवान था----- gazal shyam skha shyam


25 
               गूंगे का बयान था
              तीर था कमान था

                प्यार का उफान था
               ग़म हुआ जवान था

               छोड़ते ही घर, लगा
              अपना तो जहान था

              पीड़ की वो हाट थी
              प्यार का मचान था

              बाप था ढलान पर
             सुत हुआ जवान था

            घर बिका किसान का
            शेष पर लगान था

फ़ाइलुन,मफ़ाइलुन   ..२००६


मेरा एक और ब्लॉग http://katha-kavita.blogspot.com/

8 comments:

  1. "छोड़ ते ही घर लगा ,अपना तो जहां था "नेनो बहर की अच्छी ग़ज़ल .

    ReplyDelete
  2. आपकी रचना तेताला पर भी है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. घर बिका किसान का
    शेष पर लगान था

    बहुत खूब ...अच्छी गज़ल

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन...वाह!

    ReplyDelete
  5. वाह! बहुत सुन्दर और शानदार ग़ज़ल! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  6. राजनीति का क्षेत्र था
    घोड़ा गधा समान था :)

    ReplyDelete
  7. गजब की प्रस्तुति है श्याम जी.
    आपने शब्दों से ही ऐसा विस्फोट कर दिया है कि मुहँ से
    'आह','बहुत खूब' और 'वाह' ही निकल पा रहा है.

    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
  8. छोड़ते ही घर, लगा
    अपना तो जहान था
    ye sher sab se badhiya lagaa ...

    ReplyDelete