Saturday, September 24, 2011

आइनों का है मसीहा वाकई कोई नहीं

 आइनों पर यों तो तोहमत हैं लगाते आइने
आइनों की खुद ही शोहरत भी बढ़ाते आइने

आइनों का खुद कहाँ है मोल कोई भी भला
दूसरों के मोल ही बस हैं लगाते आइने

आइनों को है कहाँ फुर्सत कि देखें आइना
आपको दाग आपके ही हैं दिखाते आइने

आइनों को झूठ कहने की भला आदत कहाँ
झूठ को बस झूठ, सच को सच बताते आइने

लोग थे पहले चुराते आइनों से अपना मुँह
अब तो लोगों से हैं मुँह अपना छुपाते आइने

आइनों का है मसीहा वाकई कोई नहीं
खुद-ब-खुद ही टूट कर हैं फैल जाते आइने



फ़ाइलातुन,फ़ाइलातुन,फ़ाइलातुन,फ़ाइलुन [२.२.९६ ७ पी .एम ]






मेरा एक और ब्लॉग http://katha-kavita.blogspot.com/

12 comments:

  1. आइने की खुबसूरत ग़ज़ल पर बधाई।
    आइने की इस ग़ज़ल पर एक और आइने का शेर:
    जानते हैं ये कि पत्‍थर ही मिला करते हैं पर,
    काम अपना इस जहॉं में कर ही जाते आइने।

    ReplyDelete




  2. आदरणीय श्याम सखा 'श्याम'जी
    सादर अभिवादन !

    ख़ूबसूरत ग़ज़ल है -
    आइनों को झूठ कहने की भला आदत कहां
    झूठ को बस झूठ, सच को सच बताते आइने

    लोग थे पहले चुराते आइनों से अपना मुंह
    अब तो लोगों से हैं मुंह अपना छुपाते आइने

    बहुत अच्छे शे'र हैं दोनों , मुबारकबाद !

    एक शे'र मेरा भी झेलिएगा :)
    शाइरों की सोच का सामान तो नहीं
    आइनों में देखिए हैवान तो नहीं


    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  3. तभी तो फ़ैज़ ने कहा था.... क्यों आस लगाए बैठे है, शीशों का मसीहा कोई नहीं॥

    ReplyDelete
  4. आप सभी गुणीजनों का आभार। भाई तिलक राज एवम्‌ राजेन्द्र स्वर्णकुमार जी आपने वाकई आइनो की आब और बढ़ा दी है,दोनो शे‘र खूबसूरत हैं।

    ReplyDelete
  5. आइनों को झूठ कहने की भला आदत कहां
    झूठ को बस झूठ, सच को सच बताते आइने

    लोग थे पहले चुराते आइनों से अपना मुंह
    अब तो लोगों से हैं मुंह अपना छुपाते आइने…

    उम्दा शेर हैं। बहुत खूब !

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्‍छी गजल है बन्‍धु । बधाई । मनोज अबोध

    ReplyDelete
  7. लाजवाब ग़ज़ल है ... एक एक शेर जैसे एक एक अनमोल मोती ..

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया लगा ! बेहतरीन प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete




  9. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  10. RAGHUNATH MISRA11/4/11, 4:05 PM

    Adarniya Shyam bhai ji,
    main apki gajlon ka pransasak to hun hi aur ye khubsurat aur orerak hain,isase adhik kuchh kah pana ,itani height ki gajalon ke liye mere vash mein nahin hai.RAGHUNATH MISRA,KOTA

    ReplyDelete