Friday, July 24, 2009

फ़ुटकर -शे‘र---4


न सुनना ही सीखा,न कहना ही आया
मुझे दिल मिला था,जुबां भी मिली थी


फ़ऊलुन,फ़ऊलुन,फ़ऊलुन,फ़ऊलुन

19 comments:

  1. kahane sunane men dil ??????

    ReplyDelete
  2. बढिया कहा आपने... मगर

    कहने को क्या है, सुनने को क्या है
    लफ़्जों का दर्द है, लफ़्जों की दवा है

    ReplyDelete
  3. वाह...सुभान अल्लाह ...
    नीरज

    ReplyDelete
  4. futkar sher ne bhi shama bhand di..
    badhiya laga...
    badhyai

    ReplyDelete
  5. मेरे लफ़्जों की बुनकरी आप दिल से कबूलते हैं तहे दिल से शुक्रिया
    अनाम जी
    गीत कानो से नहीं दिल से सुना जाता है
    श्याम सखा श्याम

    ReplyDelete
  6. शेर क्या है, मानो लोटे में समन्दर भरा है।

    ReplyDelete
  7. दिल की जगह अगर कान कर दें ( वज़न देखकर) तो एक नई बात हो जायेगी ,बाकी बढिया कहा है

    ReplyDelete
  8. Swapna Manjusha 'ada'7/25/09, 8:02 AM

    कमाल का शेर....

    ReplyDelete
  9. गलत ना सुने जो,गलत ना कहे जो,
    उसीका जुवां-दिल मिलना है वाज़िव।

    ReplyDelete
  10. लाजवाब...
    पूरी ग़ज़ल सुनने को तड़प उठे हम तो

    ReplyDelete
  11. सुभान अल्ला कितना मज़ा आ गया इस शेर में....... कमाल है

    ReplyDelete