Friday, June 5, 2009

फ़ुटकर शे‘र नं -२


चिरागों से सबक सीखें जलें कैसे
दिलों के भी तो बुझने का सबब जानें

वज्न- मफ़ाएलुन,मफ़ाएलुन,मफ़ाएलुन



फोटो- श्याम सखा

7 comments:

  1. बहेतरीन रचना।

    ReplyDelete
  2. अच्छा हो कि कविता यहीं दिखाई दे। पढ़ने में सुविधा होगी।

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत शेर...........

    ReplyDelete
  4. umda ghazal.............mubaraq ho

    ReplyDelete
  5. पढ़ते ही मन ने बरबस ये पंक्तियाँ रच दीं
    ये जल तो लेते हैं एक दूसरे से
    अँधेरा अपनी तली का न पहचानें

    परवाह करते हैं सिर्फ अपनी ही नमी की
    दूसरा चुक रहा है ये हैं अनजाने

    ReplyDelete