Friday, June 12, 2009

फुटकर शे‘र नं -३



दिल में उतरी थी वो बिजलियों की तरह
जब गई तो गई आंधियों की तरह

15 comments:

  1. बहुत ही अच्छी रचना....!हमारे यहाँ पर तो सच में बिजली इसी तरह आती जाती रहती है.....

    ReplyDelete
  2. Bahut achcha She'r !

    ReplyDelete
  3. श्याम जी ,
    बात आपने बहुत मज़ेदार कही ,बधाई.
    मगर आपकी बात में यूँ कहता हूँ.

    दिल में उतरी थी वो बिजली की तरह
    हाय जब गयी तो गयी आंधी की तरह

    ReplyDelete
  4. wah bahut khoob,

    main iski parody banata to.......

    dil pe utri thi wo billion ki tarah
    jab gai to gai chuhiyon ki tarah.

    ha ha.

    mast futkar hai shyam ji.

    ReplyDelete
  5. सुन्दर। वाह।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.

    ReplyDelete
  6. AAPSE HAMESHAA JYADAH KI UMMID HOTI HAI .... BADHAAYEE

    ARSH

    ReplyDelete
  7. लाजवाब श्याम जी.............कमाल का शेर.
    प्रणाम मेरा दुबई से

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब श्याम जी.....वैसे ६० की उम्र में .....
    "दिल में उतरी थी वो बिजलियों की तरह
    जब गई तो गई आंधियों की तरह"
    हा...हा...हा...

    ReplyDelete
  9. .एक निवेदन है कभी हम लोंगो के ब्लॉग पर भी नजरें इनायत कर लिया करें .

    ReplyDelete
  10. प्रेम फ़रुक्खाबादी का करेक्सन सही,व बहुत सटीक,उम्दा है, वो एक बचन है तो बिजलियों.आंधियों अशुद्ध होगा।

    ReplyDelete
  11. आदरणीय गुप्ता जी,आंधी और आंधियों को बेशक हम एकवचन व बहुवचन लेलें लेकिन एक आंधी आपने कभी देखी है-आंधी एक वचन तो त्ब होगा जब हम कहें कि ५ मिनट की एक आंधी और १० मिनट चले तो दो आंधी १५....अत: इस शे‘र में आधियों बिजलियों जायज प्रयोग है यह मैं ही नहीं गज़ल के अनेक जानकार कहते हैं
    फ़िर भी आपका मेरी गज़ल पर तवज्जो देना अच्छा लगा-मैं इसे गज़ल का सत्संग कहता हूं
    श्याम सखा

    ReplyDelete